मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर उमड़ा मजदूरों का सैलाब, घर जाने की कर रहे मांग

मुंबई। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए और इसके खिलाफ निपटने के लिए प्रधामंनमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन की अवधि सीमा को 3 मई तक बढ़ा दिया है। ऐसे में देश के विभिन्न राज्यो में रह रहे प्रवासी लोगों के सामने आजीविका की समस्या खड़ी हो गई है। इसी बीच, मुंबई के बांद्रा रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ इकट्ठी हो गई और ये सभी मजदूर घर जाने के लिए स्टेशन पर आ पहुंच गए। उन्हें हटाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज का इस्तेमाल किया। मजदूरों को ये उम्मीद थी कि 14 अप्रैल को लॉकडाउन खत्म हो जाएगा।

ये भी पढ़े-3 मई तक जारी रहेगा लॉकडाउन 2.0, जानिए वो 7 मुख्य बातें जो मोदी ने अपने संबोधन की

प्रवासी मजदूर खाना और शेल्टर नहीं, वे घर जाना चाहते हैं

इससे पहले महाराष्ट्र सरकार की कैबिनेट के उप समिति की बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि जो मजदूर यूपी-बिहार, राजस्थान या अन्य राज्यों से हैं, उन्हे उनके अपने-अपने राज्यों में भेजा जाए। केंद्र सरकार उन्हें घर पहुंचाने को लेकर फैसला नहीं ले पाई, आदित्य ठाकरे ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है, प्रवासी मजदूर खाना और शेल्टर नहीं चाहते हैं, वे घर जाना चाहते हैं।

ये भी पढ़े-जयपुर में कोरोना का एक और बम धमाका, परकोटे में आए 71 नए संक्रमित

दूसरे राज्यों के कई मजदूर फंसे 

लॉकडाउन की वजह से सभी उद्योग धंधे बंद पड़े हैं, ऐसे में महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में दूसरे राज्यों के कई मजदूर फंसे हुए हैं। आपको बतादें  कि सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ठाकरे सरकार महाराष्ट्र में फंसे अन्य राज्यों के प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने के पक्ष में है। वर्तमान में महाराष्ट्र में अलग-अलग आश्रय शिविरों में 6 लाख से अधिक लोगों को रखा गया है।

 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X
error: Content is protected !!