कोरोना ही नही कुछ वायरस ऐसे भी, जिन्होने पुरी दुनिया फैलाई महामारी

कोरोना ही नही कुछ वायरस ऐसे भी, जिन्होने पुरी दुनिया फैलाई महामारी

कोरोना वायरस इन दिनों पूरी दुनिया के लिए खौफ बन चुका है। ये वायरस अब तक 73 देशों में यह फैल चुका है। लेकिन यह पहला मामला नहीं है जब किसी वायरस ने इस कदर तबाही मचा रहा हो। इससे पहले भी 2009 में स्वाइन फ्लू और 2002 में सॉर्स तबाही मचा चुके हैं।

अब तक 3511 लोगों की हो चुकी है मौत

चीन के कोरोना वायरस से पुरी दुनिया भर में अब तक 3511 लोगों की मौत हो चुकी है और 102070 लोग संक्रमित संदिग्ध मरीज पाए गए हैं।  इस वायरस के प्रकोप से चीन का वुहान शहर पूरी तरह से बाकी राज्यों से कटा हुआ है। यहां से कोई उड़ान नहीं भरी जा रही है। पूरा शहर सूनसान पड़ा हुआ है। सभी मार्केट बंद हैं, लोग घरों में कैद होकर रह गए।

50 में से एक व्यक्ति संक्रमित

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) अभी तक इसे वैश्विक आपातकाल नहीं कह रहा है। मौजूदा आंकड़ों में दो प्रतिशत की दर से मृत्यु दर का निष्कर्ष निकाला गया है, जिसका अर्थ है कि 50 में से एक व्यक्ति संक्रमण से मर जाता है। कुछ 15 से 20 प्रतिशत मामले गंभीर होते हैं, जिसका अर्थ है कि लोगों को अस्पताल में उपचार या वेंटिलेशन की आवश्यकता होती है क्योंकि यह बीमारी निमोनिया जैसी बीमारी का कारण बनती है। तेजी बढ़ रहे इस वायरस एक से चिंता का एक अंतरराष्ट्रीय कारण बनता जा रहा है।

हम आपको बताते है कुछ वायरसों के बारे में, जिन्होने पुरी दुनिया फैलाई महामारी

एंटोनिन प्लेग
यह 165 A.D में प्लेग से गुजरने का मामला था जब चेचक का शुरुआती मामला सामने आया था। इसे एंटोनिन प्लेग के रूप में जाना जाता है, यह हूणों के साथ शुरू हुआ जिन्होंने तब जर्मनों को संक्रमित किया था,  जिनके सैनिकों ने इसे पूरे रोमन साम्राज्य में फैलाया था। एक यूनानी चिकित्सक गैलेन ने प्रकोप देखा और लक्षणों को दर्ज किया था। उस समय इस बीमारी से लगभग पांच लाख लोग मारे गए थे। एंटोनिन प्लेग ने पूरी रोमन सेना को तबाह कर दिया था। यह प्लेग लगभग 180 A.D तक जारी रहा है।

 The Black Death (ब्लैक डेथ) 1346 से 1353 तक ब्लैक डेथ के प्रकोप ने यूरोप, अफ्रीका और एशिया को तबाह कर दिया था। इस बीमारी के फैलने का सबसे बड़ा स्त्रोत व्यापारी जहाजों पर रहने वाले चूहों को पाया गया था। प्लेग से दूषित चूहे कॉलोनी के अधिकांश को मारने के लिए जिम्मेदार माने गए। इसके प्रकोप में देखा गया कि तीन से पांच दिन में 80 प्रतिशत मामलों में लोगों की मृत्यु हो गई। लंदन में ब्लैक डेथ की शुरुआत उस भयानक गर्मी के दौरान 15 प्रतिशत आबादी का सफाया हो गया था

Asian Flu (एशियन फ़्लू) एशियन फ़्लू H2N2 उपप्रकार के इन्फ्लुएंजा ए का एक महामारी प्रकोप था जो 1956 में चीन में उत्पन्न हुआ और 1958 तक चला। उसके कुछ समय बाद ये यह पूरे चीन और उसके क्षेत्रों में फैल गया। उसके बाद यह संयुक्त राज्य अमेरिका तक पहुंचा, वहां इससे कम लोग संक्रमित हुए, कई महीनों के बाद फिर संक्रमण के कई मामले सामने आए, खासकर छोटे बच्चों, बुजुर्गों और गर्भवती महिलाओं में। महामारी ब्रिटेन में भी पहुंची और दिसंबर तक इंग्लैंड और वेल्स में इससे कुल 3,550 मौतें हुई थीं।

Zika Fever  (जीका वायरस ) जीका वायरस एक मच्छर जनित फ्लैवि वायरस है जो मुख्य रूप से रक्त-चूसने वाले एडीज एजिप्टी मच्छरों द्वारा प्रेषित होता है। इस बीमारी के लक्षणों में बुखार, दाने, जोड़ों का दर्द और आंखें लाल होना शामिल हैं। मई 2015 में, ब्राजील में जीका वायरस का पहला केस पाया गया था। 68 देशों में 1.5 लाख से अधिक लोगों को प्रभावित किया, शहर के जीवन में मच्छर की क्षमता, कूड़े में पनपने, खुली हुई खाई, भरा हुआ नालियों, पुराने टायर डंप और भीड़भाड़ वाले निवास स्थानों में ये पाए गए।

Spanish Flu (स्पैनिश फ्लू) इस फ्लू को इतिहास में सबसे अधिक घातक में से एक के रूप में माना जाता है। इस फ्लू ने पांच लाख लोगों को प्रभावित किया था और लगभग 50 हजार लोगों की मृत्यु हुई थी।  1918 में इस महामारी ने 6 लाख 75 हजार अमेरिकियों को भी अपनी चपेट में ले लिया था। 1918 की महामारी की पहली लहर वसंत में हुई और आम तौर पर ठंड, बुखार और थकान जैसे ठेठ फ्लू के लक्षणों का सामना करने वाले बीमार लोगों के साथ हल्के थे और फिर कई दिनों के बाद ठीक हो गए। उस समय, इसका इलाज करने के लिए कोई प्रभावी दवाएं या टीके नहीं थे।  यह दुनिया भर में स्पैनिश फ्लू के रूप में जाना जाने लगा, क्योंकि स्पेन इस बीमारी की चपेट में था

 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X
error: Content is protected !!