इटली नागरिक की पत्नी को भी Corona Virus की पुष्टि, प्रताप नगर स्थित आईसोलेशन अस्पताल में शिफ्ट

इटली नागरिक की पत्नी के भी कोरोना की पुष्टि

Corona Virus (COVID-19): जयपुर : एसएमएस अस्पताल में भर्ती कोरोना (COVID-19) के शिकार इटली नागरिक की पत्नी के भी कोरोना की पुष्टि हो गई है। उनकी पहली जांच सवाई मानसिंह अस्पताल में हुई थी वह Positive आई। उसके बाद दूसरी जांच के लिए नमूने को पुणे स्थित लेब में भेजे गए थे। ये जांच भी पॉजिटिव आई है। एसएमएस अस्पताल में दो पॉजिटिव मामले होने के कारण अस्पताल प्रशासन और सरकार की नींद उड़ गई है।

SMS अस्पताल में 2कोरोना पॉजिटिव और 6 अन्य संदिग्ध मरीज भर्ती

SMS अस्पताल में इटली नागरिक की पत्नी को भी एहतीयात के तौर पर भर्ती करके यहां अस्पताल में जांच की गई, वह मंगलवार को पॉजिटिव आई थी। उसके बाद जांच के सैंपल पुणे स्थित लेब में भेजे गए। जहां से उनकी जांच रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इस समय SMS अस्पताल में 2कोरोना पॉजिटिव और 6 अन्य संदिग्ध मरीज भर्ती हैं।

अधिकारियों और डॉक्टरों को जरूरी दिशा निर्देश

इसके अलावा राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के आईसोलेशन अस्पताल में मंगलवार देर रात को 9 मरीजों को सवाई मानसिंह अस्पताल से शिफ्ट किया गया था। दोनों मरीजों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद सरकार पूरी तरह से अलर्ट हो गई है। इसको लेकर मुख्यमंत्री ने भी आपात बैठक बुलाई और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और डॉक्टरों को जरूरी दिशा निर्देश दिए। बैठक में जानकारी दी गई कि कोरोना वायरस (COVID-19) के पॉजिटिव मरीजों के उपचार में किसी तरह की कोताही नहीं बरती जाए। डब्ल्यूएचओ के निर्धारित प्रोटोकोल के अनुसार ही उपचार किया जाए।

मेडिकल कर्मचारियों के अवकाश किए निरस्त

प्रदेश में कोरोना (COVID-19) के दो पॉजिटिव मरीजों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को एक आदेश जारी कर मेडिकल कर्मचारियों के अवकाश को निरस्त कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग के आदेश के अनुसार मौसमी बीमारियों व कोरोना वायरस (COVID-19) की स्थिति में मध्यनजर चिकित्सकों, नर्सिंग कर्मियो व पैरामेडिकल स्टाफ के अवकाश आगामी आदेशों तक निरस्त कर दिए ए है।

47 लोगों की करवाई जांच

कोरोना वायरस (COVID-19) के संपर्क में आने वालों की भी स्वास्थ्य विभाग ने जांच करना शुरू कर दिया है। मंगलवार को विदेशी कोरोना नागरिक के संपर्क में आने वाले 52 लोगों के सैंपल लेकर सवाई मानसिंह अस्पताल में जांच करवाई गई। इसके अलावा एसएमएस अस्पताल के 47 लोगों की जांच करवाई गई है। फोर्टिस अस्पताल के 7 डॉक्टर व नर्सिंग स्टाफ की जांच करवाकर सभी को होम आईसीयू में रखने के निर्देश दिए हैं।

अस्पताल परिसर में छात्रों का दिनभर हंगामा और विरोध

उधर प्रताप नगर स्थित आईसोलेशन अस्पताल में कोरोना वायरस के मरीजों को एसएमएस अस्पताल से स्थानांतरित करने का लोगों तथा डॉक्टरों ने विरोध किया। अस्पताल परिसर में छात्रों ने दिनभर हंगामा किया और विरोध जताया।

क्या है कोरोना (COVID-19) वायरस?

कोरोना वायरस (COV) का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम, सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या होती है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस वायरस का संक्रमण दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में शुरू हुआ था। WHO के अनुसार बुखार, खांसी औऱ सांस लेने में तकलीफ जैसे इसके लक्षण हैं। अभी तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है।

क्या हैं इस बीमारी के लक्षण?

कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमण से बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए इस को लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। यह वायरस दिसंबर 2019 में सबसे पहले चीन में पकड़ में आया था।

क्या हैं इससे बचाव के उपाय?

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इनके मुताबिक आपको हाथों को साबुन से धोना चाहिए, अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है, खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल से ढककर रखें। जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें। अंडे और मांस के सेवन से बचें। जंगली जानवरों के संपर्क में ना आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.