होली के रंगो में कहीं उड ना जाए चेहरे का नूर, आजमाएं ये तरीके ताकि बना रहेगा चहरे का नूर

बदलते मौसम में जहां हमारी स्किन डेड और रूखी हो जाती है, वहीं होली के बाद त्वचा से कलर्स को उतारने में साबुन का इस्तेमाल किया जाता है जिससे त्वचा से सम्बंधित कई तकलीफ भी होने लगती है।  ऐसे में स्किन को हाइड्रेट करना बहुत जरूरी है, ताकि त्वचा में नमी रहे। इसके लिए होली के बाद हाइड्रेटिंग फेशियल करवाना त्वचा में चमक को बरकरार रखने का एक बढ़िया तरीका है। इससे त्वचा में नमी कंट्रोल रहने के साथ-साथ प्रदूषण की वजह से होनी वाली त्वचा संबंधी सम्सया भी दूर रहती है।

होली के बाद कुछ लोगों की त्वचा डल होने के साथ-साथ ऑयली भी हो तो हाइड्रेट मास्क का इस्तेमाल किया जाता है जो वॉटर बेस्ड और मॉइश्चराइजर रिच इंग्रीडिएंट के साथ बने होते हैं। कलर और साबुन के इफ़ेक्ट से त्वचा रूखी-सूखी, खुरदरी और बेजान तो होती ही है साथ ही रूखेपन के कारण उसमे खुजली और जलन भी हो सकती है, इससे साफ  है कि त्वचा डिहाइड्रेट है और इसे प्राकृतिक नमी की जरूरत है । लेकिन हाइड्रेटिंग फेशियल से त्वचा के सैल स्क्ट्रेचर में सुधार होने लगता है। इससे त्वचा को न्यूट्रिशियंस और विटामिन पूरी तरह से मिल जाते हैं। जिससे खुजली और जलन से राहत मिलती है। इस में मौजूद ग्लोइक, लैक्टिक व सैलिक ऐसिड त्वचा के डैमेज सैल्स को ऐक्सफौलिएट करने के साथ-साथ रिपेयर कर के त्वचा को फ्रैश लुक भी प्रदान करता है।

 

होली के बाद सबसे बड़ी सम्सया रोम छिद्रो में जमा कलर बनता है। आप चाहे लिक्विड कलर से होली खेलें या ड्राई कलर से। ये त्वचा के रोम छिद्रो में जम कर मुहांसों को जन्म देता है। अगर आपकी स्किन ऑयली है तो चेहरे पर जमा ऑयल इन कलर से मिल कर मुंहासों का कारण बनता है। लेकिन इस हाइड्रेटिंग फेशियल के बाद त्वचा की इस परेशानी छुटकारा मिल जाता है। इस फेशियल के बाद स्किन रोम छिद्र पूरी तरह से साफ हो जाते हैं। इसके बाद कोई भी स्किन प्रॉडक्ट त्वचा आसानी से ऑब्जर्व कर लेती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.